16 Effective Yoga Asanas For PCOD – Yoga Asanas For PCOD/PCOS & Hormonal Imbalance

PCOD/PCOS बीमारी से बचने के उपाय और योगासनों का पूरा वीडियो यहाँ देखे 👆👆👆👆

इस भागदौड़ भरी जिंदगी में महिलाएं न वक़्त पर खाती हैं, ना सोती हैं और न ही खुद की सेहत का ख्याल रख पाती हैं। आज के ज़माने में महिलाओं की स्थिति अधिक विचारणीय है क्योंकि उन्हें घर-बाहर दोनों तरफ संतुलन बनाकर चलना होता है। ऐसे में महिलाओं में तनाव का स्तर अधिक रहता है और अंतत: वह समझौता करती हैं अपनी सेहत से।

कई बार शरीर को अनदेखा करने से विभिन्न प्रकार की समस्याएं पैदा होती है जिनमें से एक है PCOD/PCOS बीमारी। इस समस्या से पीड़ित महिलाओं में और भी अनेक बीमारियां होने का खतरा बना रहता है। यह रोग महिलाओं एवं लड़कियों में होना आजकल आम बात हो गई है। कुछ सालों पहले तक यह समस्या 30-35 उम्र की महिलाओं में अधिक पाई जाती थी पर अब स्कूल जा रही बच्चियों में भी यह समस्या आम हो गई है। आपको बता दें कि जिन लड़कियों में पीरियड्स की समस्या देखने मिलती है उन्हीं लड़कियों को पॉली सिस्टिक ओवेरियन डिजीज (PCOD) की समस्या का सामना करना पड़ता है। अगर कम उम्र के चलते ही इस समस्या का पता लग जाए तो इसे काबू में किया जा सकता है।

पीसीओडी (PCOD) यानि पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर की समस्या आमतौर पर महिलाओं के अंदर हॉर्मोनल असंतुलन होने के कारण होती है।

सामान्य तौर पर मनुष्यों में शरीर की सभी प्रक्रियाओं के सही तरह से काम करने के लिए “पुरुष” तथा “महिला” दोनों हार्मोन की आवश्यकता होती है परन्तु इस समस्या से पीड़ित महिलाओं के शरीर में हॉर्मोनल असंतुलन होने के कारण उनके शरीर में पुरुष हार्मोन एण्ड्रोजन का लेवल बढ़ जाता है और अंडाशय (Ovary) पर सिस्ट(गांठ) बनने लगती हैं।

पीसीओडी के लक्षण क्या हैं

पीरियड्स की समस्याएं – पीरियड्स अनियमित हो सकते हैं या कई महीनों तक पीरियड्स आना बंद हो जाते है। या फिर पीरियड्स के दौरान बहुत भारी ब्लीडिंग हो सकती है।

अनचाही जगहों में बालों का विकास – महिला में पुरुष हॉर्मोन एण्ड्रोजन ज़्यादा बनने की वजह से शरीर में काफी बदलाव आ सकते है जैसे की चेहरे और शरीर के कई हिस्सों पर ज़्यादा बाल उगना।

बालों का झड़ना – शरीर में एण्ड्रोजन हॉर्मोन की मात्रा बढ़ने से सिर के बाल पतले हो सकते है और जिससे बालों का झड़ना बढ़ सकता है।

वजन बढ़ना – पीसीओडी के कारण महिलाएं वजन बढ़ने की समस्या के साथ संघर्ष करती हैं या फिर उन्हें वजन कम करने में मुश्किलें होती है।

मुंहासे या तैलीय त्वचा – हार्मोन परिवर्तन के कारण पिंपल और तैलीय त्वचा की समस्या हो सकती है।

सोने में परेशानी – सोते समय परेशानी और हर समय थकान महसूस हो सकती है। साथ ही हॉर्मोन के परिवर्तन के कारण सिर दर्द की समस्या भी हो सकती है।

गर्भवती होने में परेशानी – पीसीओडी बांझपन के प्रमुख कारणों में से एक है।

PCOD/PCOS से निजात पाने के लिए लिए क्या करे 

PCOD/PCOS से निजात पाने के लिए जुड़े प्रकृति से

प्राकृतिक जगहों पर सैर करने जाएं जिससे केवल आपका तनाव ही दूर नहीं होगा बल्कि वजन भी कम होगा जिससे मासिक धर्म सही समय पर आ सकते हैं। व्यायाम आपके शरीर को स्वस्थ रखने के साथ तनाव मुक्त भी करता है। अपना कुछ वक़्त आप अकेले प्रकृति के साथ बिताएं जिससे आप का मन शांत रहे। इसके साथ आप संगीत सुने या कुछ अच्छी किताबें पढ़ें।

अच्छा खानपान, अच्छी सेहत 

जंक फ़ूड,अधिक मीठा,फैट युक्त भोजन,अत्यधिक तैलीय पदार्थ,सॉफ्ट ड्रिंक्स, का सेवन बंद कर अच्छा पौष्टिक आहार लेना ज़रूरी है। अपनी डाइट में फल,हरी सब्जियां,विटामिन बी युक्त आहार,खाने में ओमेगा 3 फेटी एसिड्स से भरपूर चीज़ें शामिल करें जैसे अलसी, फिश, अखरोट आदि। आप अपनी डाइट में नट्स, बीज, दही, ताज़े फल व सब्जियां ज़रूर शामिल करें। दिन भर भरपूर पानी पीएं। मीठा खाने से परहेज करें क्योंकि डाइबिटीज़ होना इस बीमारी कारण हो सकता है। किसी भी तरह का मोटापा पैदा करने वाला पदार्थ जैसे, सफेद आटा, पास्ता, डब्बाबंद आदि न खाएं।

सही लाइफस्टाइल का चयन करें 

लड़कियां आजकल पढ़ाई या ऑफिस के काम बहुत व्यस्त हो गई हैं जिससे उनका स्ट्रेस लेवल बढ़ रहा है और वे अपनी सेहत पर भी ध्यान नहीं दे पाती हैं। इसके अलावा मॉडर्न जनरेशन की लेट नाइट पार्टीज जिसमें बच्चे स्मोक, शराब और अन्य नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं, यह उनकी सेहत के लिए अच्छा नहीं होता। मॉडर्न जनरेशन के अलावा महिलाएं भी अपनी किटी पार्टीज और पब पार्टीज में इसका सेवन कर रहीं हैं। PCOD/PCOS से छुटकारा पाने के लिए लाइफस्टाइल बदलना बहुत ज़रूरी है। बहुत सी महिलाएं इसे नज़र अंदाज़ कर देती हैं क्योंकि उन्हें इस बीमारी के बारे में पता ही नहीं होता है। इस कारण वे अपनी बच्चियों में यह लक्षण पहचान नहीं पाती जिससे आगे उन्हें गर्भधारण में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। अगर आपको इस तरह के लक्षण नजर आएं तो स्त्री रोग विशेषज्ञ से जरूर परामर्श लें और जल्द से जल्द इसका उपचार कराएं।

पीसीओडी से होने वाली अन्य समस्याओं से डायबिटीज तथा हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होना भी आम है इसलिए हमें फाइबर से भरपूर भोजन तथा का सेवन करना चाहिए, प्रतिदिन योग करना चाहिए तथा अपनी जीवनशैली को संतुलित करना चाहिए जिससे हमें इस समस्या से निजात मिल जाए ।

सही आहार, नियमित व्यायाम और लाइफस्टइल में सुधार कर के इस समस्या को रोका जा सकता है।

ये ५ अचूक घरेलू उपाय तथा १६ योगासन PCOD/PCOS की समस्या से निजात पाने में आपकी काफी मदद कर सकते हैं

 ५ अचूक घरेलू उपाय

१. मेथी

२. मुलेठी

३. तुलसी

४. दालचीनी

५. पुदीना

१६ योगासन 

1. प्रसारित पादोत्तानासन

2. बद्धकोणासन

3. उपविष्ट कोणासन

4. उष्ट्रासन

5. सुप्त बद्धकोणासन

6. पश्चिमोत्तानासन

7. जानु शीर्षासन

8. पवनमुक्तासन

9. सेतुबंधासन

10. हलासन

11. भुजंगासन

12. शलभासन

13. धनुरासन

14. चक्रासन

15. अधोमुख श्वानासन

16. उर्ध्वमुख श्वानासन

Categories yoga, Yoga Article, Yoga for DiseasesTags , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close