योग से पांच प्रमुख रोगों का उपचार

योग भारतीय कला का एक रूप है, जो मात्र एक कला से कहीं ज्यादा महत्व रखती है। योग हमारी जिंदगी में कई मायनों में अपना एक अलग ही स्थान रखता हैं, चाहे फिर वो रोगो से मुक्त होने के लिए हो या फिर सुगम एवं स्वस्थ्य जिंदगी एवं शरीर‌ का कायापन करना हो। कई शोध से पता भी चलता है कि जहाँ दवाइयाँ अपना असर दिखाने में नाकाम रही हैं वहाँ योग ने अपना असर दिखाया है।
योग की ताक़त का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता हैं की यदि आप अपनी दिनचर्या में योग को शामिल करते हैं तो आप किसी भी तरह की बीमारी से खुद का बचाव काफी आसानी से कर सकते हैं, एवं आप देखेंगे की कि योग आपको एक नयी ऊर्जा प्रदान करता है जो आपकी शारीरिक दशा एवं दिशा दोनों बदल देगा और आप अपने भीतर एक नयी ऊर्जा का संचरण देखेंगे।

योग हर उम्र एवं हर उम्र के समूह के लिए उपयुक्त है,और विभिन्न रोगो के पारम्परिक उपचारों के साथ-साथ पूरक चिकित्सा के रूप में भी इसका उपयोग किया जाता रहा है। कई मामलो में ऐसा भी देखा है कि योग जन्मजात रोगो से छुटकारा दिलवाने में भी कामयाब रहा हैं फिर चाहे वो रोग आंतरिक हो या बाहरी रोग।

1.अस्थमा: आजकल के पर्यावरण में होते हुए बदलावों एवं खान-पान में आए बदलावों की वजह से इंसान अक्सर नई-नई बीमारियों से ग्रसित हो जाता है उनमे से ही एक है अस्थमा, अस्थमा से पीड़ित इंसान जीवन में बहुत सी चीज़ो का आनंद नहीं ले पाता। अस्थमा से ग्रसित रोगी इस समस्या से निपटने के लिए अनेक नुस्खे अपनाते रहते हैं परन्तु वे सबसे आसान तरीका भूल जाते हैं, जो की है योग। तो आइये बात करते हैं कि किस तरह के योग से अस्थमा के रोगी अपना जीवन आसानी से एवं सुगमता से यापन कर सकते हैं।

पवनमुक्तासन : अस्थमा से पीड़ित लोगो के लिए यह आसन काफी उपयोगी है क्यूंकि यह पाचन में और गैस के निर्गमन में मदगार है।

शवासन : यह मुद्रा आपको ध्यान अवस्था में ले जाती है और आपको चिंतामुक्त एवं मानसिक दबावों से मुक्त करती है। यह शांत और तनावमुक्त योग शरीर को अस्थमा से निपटने में मदद करता है।

अनुलोम-विलोम (नाड़ी शोधन प्राणायाम) : यह आसन मन एवं शरीर को तनाव से मुक्त करने एवं सांस लेने की तकनीक एवं विधियों को कैसे नियोजित करते हैं उसमें मदद करता है।

भुजंगासन :  भुजंगासन वैसे तो कई तरह के रोगो के लिए उपयोगी योग है परन्तु अस्थमा में बहुत ही उपयोगी है क्यूंकि यह रक्त परिसंचरण में सुधार करता है।

2. डायबिटीज: डायबिटीज एक घातक बीमारी है, जो आजकल काफी व्यापक हो चुकी हो और साधरणतया लोगो में पाए जानी वाली बीमारियों में से एक हैं। परन्तु अन्य रोगो की तरह इस रोग का उपचार भी योग द्वारा हल किया जा सकता है।

कपाल-भाती : किसी भी मधुमेह रोगी के लिए कपालभाती सर्वोत्तम विकल्प है। यदि किसी मधुमेह रोगी द्वारा इस तकनीक का नियमित अभ्यास किया जाये तो उसके रोगी पर नियंत्रण किया जा सकता है। यह योग का एक अत्यंत प्रभावकारी रूप है।

त्रिकोणासन : त्रिकोणासन करने से शरीर को स्टैमिना और एनर्जी मिलती है इसके सिवा यह आसन नाभि को ठीक रखने में भी सहायक होता है।

पश्चिमोत्तानासन : पश्चिमोत्तानासन को नियमित रूप से दिनचर्या में शामिल करने से पेट की पेशियां मजबूत होती है जो पाचन सम्बन्धी बीमारियों में सहायक सिद्ध होती है।

अर्ध मत्स्येन्द्रासन : अर्ध मत्स्येन्द्रासन डायबिटीज रोगी के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण योग है, यह शरीर को अंतरीक रूप से साफ रखने का कार्य करता है, पाचन में भी मदद करता है।

3. हृदय सबंधी रोग: वैसे तो लोगो में कई तरह के रोग प्रायः देखे जाते हैं परन्तु आजकल लोगो में सबसे ज्यादा देखने जाने वाले रोग हृदय सम्बन्धी होते हैं जो की न सिर्फ घातक हैं अपितु जानलेवा भी हैं। तो आईये अब हम जानते हैं की किस तरह के योग से हम हृदय सम्बन्धी रोगो से छुटकारा पा सकते हैं।

त्रिकोणासन : त्रिकोणासन दिल से समबन्धी एवं श्वसन सबंधी रोगो से छुटकारा दिलवाने में अत्यंत उपयोगी है। इस योग की मदद से छाती में विस्तार होता है, श्वसन प्रक्रिया लयबद्ध हो जाती है। यह योग आपका स्टैमिना भी बढ़ाने में मददगार साबित होता है।

वीरभद्रासन : वीरभद्रासन शरीर में मांशपेशियों की गतिविधियो फिर चाहे वे शरीर के किसी भी अंग की बात की जाये को बढ़ता हैं एवं हृदय सम्बंधित बीमारियों से छुटकारा दिलाता है।

अधोमुख-श्वानासन : अधोमुख-श्वानासन योग को नियमित रूप से दिनचर्या में शामिल करने से रक्त का संचरण हृदय में नियमित रूप से बना रहता है जिसकी वजह से हृदय स्वस्थ्य एवं रोगो से मुक्त रहता है।

धनुरासना : धनुरासन द्वारा हम हृदय सम्बन्धी रोगो का निवारण कर सकते हैं। धनुरासन हृदय के आस पास का क्षेत्र को मजबूत बनता है, और ये पुरे शरीर को लचीला एवं ऊर्जावान बनता है।

4.रक्तचाप नियंत्रण: प्रायः रक्तचाप से सम्बन्धी रोग लोगो में देखा जाता है फिर चाहे वो उच्च रक्तचाप हो या निम्न रक्तचाप। रक्तचाप कई विभिन्न तरह के रोगो को भी जन्म देता है। तो रक्तचाप को नियंत्रित करना अत्यंत आवश्यक है तो आईये बात करते हैं की किस तरह के योग को अपनाते हुए हम रक्तचाप समबन्धी रोग से छुटकारा पा सकते हैं।

सुखासन : यह आसन शरीर एवं दिमाग को शांत रखने में मदद करता है, यह आसन मनुष्य के नर्वस प्रणाली पर कार्य करता है। यह हाइपरटेंशन को कम करता है एवं रक्तचाप को बनाये रखता है।

अधोमुख श्वानासन : अधोमुख श्वानासन सबसे उपयोगी आसनों में से एक है रक्तचाप नियंत्रण के लिए, यह आसन शरीर में रक्त संचरण को काबू में रखता है। अधोमुखो आसन तनाव एवं उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है।

शवासन : कोई भी योग इस योग के बिना अधूरा है, यह एक अतिआवश्यक योग है जब इस योग को धारण करते हैं तो दिमाग एवं शरीर को आराम मिलता है एवं हमारा रक्तचाप नियंत्रित अवस्था में आ जाता है।

सेतु-बंधासन : यह आसन शरीर में धीरे बहते हुए रक्त को उचित शक्ति प्रदान कर रक्तचाप को नियंत्रित करता है।

5.थाइरायड: थाइरायड एक चिकत्सीय स्थिति है जो थाइरोइड ग्रंथि के कार्य को प्रभावित करती है। यह एक अवटु ग्रंथि है,जिसमे हॉर्मोन के अनियंत्रित होने से यह बीमारी एक विकराल रूप ले लेती है। तो आइये दखते हैं की किस तरह के योग से इस समस्या का समाधान किया जा सकता है।

शीर्षासन समूह के सभी योगासन : यह योग की उत्कृष्ट मुद्राओं में से एक है क्यूंकि इससे थाइरोइड ग्रंथियों के सीधे प्रबंधन में मदद मिलती है।  यह शरीर की चपापचयी कार्यो के संतुलन में सहायता करता है तथा शरीर में जागरूकता तथा सतर्कता लता है।

सर्वांगासन : यह थाइरोइड ग्रंथि को उत्तेजित करने में मदद करता है और थयरॉक्सिन को नियंत्रित करता है। इस विशेष मुद्रा में उल्टी शारीरिक मुद्रा के कारण टांगो से सिर के भाग में रक्त प्रवाहित होता है जिससे थाइरोइड ग्रंथि को नियंत्रित करने में सहायता मिलती है।

हलासन : यह योग गर्दन को संपीडन देता है जिससे पेट और थाइरोइड ग्रंथि को उत्तेजित किया जाता है। यह मस्तिष्क को शांत करता है और तनाव और थकन को कम करता है जिस वजह से इसका नाम हलासन पड़ा।

मत्स्यासन : इस आसन में जब आप अपनी गर्दन को खींचते हैं तो यह आपकी थाइरोइड ग्रंथियों को उत्तेजित करता है।  यह आसन तनाव को कम करता है, शरीर को आराम देने और अवसाद को रोकने में मदद करता है जो थाइरोइड का कारण हो सकता है।

Categories Yoga Article, Yoga for DiseasesTags ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

<span>%d</span> bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close